25 Nov 2019by Hariom

लाल किताब के अनुसार घोर संकट से बचने के लिए 10 अचूक टोटके

छाया दान करें : शनिवार को एक कांसे की कटोरी में सरसों का तेल और सिक्का (रुपया-पैसा) डालकर उसमें अपनी परछाई देखें और तेल मांगने वाले को दे दें या किसी शनि मंदिर में शनिवार के दिन कटोरी सहित तेल रखकर आ जाएं। यह उपाय आप कम से कम पांच शनिवार करेंगे तो आपकी शनि की पीड़ा शांत हो जाएगी और शनिदेव की कृपा शुरू हो जाएगी। 

नारियल का उतारा : पानीदार एक नारियल लें और उसे अपने ऊपर से 21 बार वारें। वारने के बाद उसे किसी देवस्थान पर जाकर अग्नि में जला दें। ऐसा परिवार के जिस सदस्य पर संकट हो उसके ऊपर से वारें।  उक्त उपाय किसी मंगलवार या शनिवार को करना चाहिए। 5 शनिवार ऐसा करने से जीवन में अचानक आए कष्ट से छुटकारा मिलेगा। यदि किसी सदस्य की सेहत खराब है तो ऊसके लिए यह ऊपाय उत्तम है।

जल अर्पण : एक तांबे के लोटे में जल लें और उसमें थोड़ा-सा लाल चंदन मिला दें। उस पात्र को अपने सिरहाने रखकर रात को सो जाएं। प्रात: उठकर सबसे पहले उस जल को तुलसी के पौधे में चढ़ा दें। ऐसा 43 दिनों तक करें। धीरे-धीरे आपकी परेशानी दूर होती जाएगी।  इसके अलावा आप चाहें तो दूध-पानी मिश्रित भरा बर्तन सिरहाने रख कर सोएं और अगले दिन कीकर की जड़ में सारा दूध डाल दें। मानसिक रूप से आप खुद को स्वस्‍थ्य महसूस करेंगे और तनावमुक्त हो जाएंगे।

दोनों कान छिदवाएं : हिन्दू धर्म में कर्ण भेदन संस्कार होता है। हालांकि आजकल इस संस्कार का कोई विधिवत रूप से पालन नहीं करता है। कुछ लोग एक ही कान छिदवाते हैं तो कुछ लोग दोनों कान छिदवाते हैं। हालांकि नियम दोनों ही कान छिदवाने का है। कान छिदवाने से राहु और केतु के बुरे प्रभाव का असर खत्म होता है। जीवन में आने वाले आकस्मिक संकटों का कारण राहु और केतु ही होते हैं अत: कान छिदवाना जरूरी है। वैज्ञानिक अनुसार इस संस्कार से मस्तिष्क में रक्त का संचार सही प्रकार से होता है। मान्यता अनुसार कान छिदवाने से व्यक्ति के रूप में निखार आता है। इससे आंखों की रोशनी तेज होती है। कान छिदवाने से मेधा शक्ति बेहतर होती है तभी तो पुराने समय में गुरुकुल जाने से पहले कान छिदवाने की परंपरा थी।

नाक छिदवाएं : कान की पालि (निचला भगा) और नाक के बाएं भाग को छिदवाया जाता है। नाक अक्सर सिर्फ महिलाओं की ही छिदवायी जाती है। लेकिन यदि लाल किताब के अनुसार आपका चंद्र, गुरु और बुध खराब स्थिति में है और इससे आपके जीवन में रोजगार, बहन पर संकट, माता पर संकट आदि की समस्या आ रही है तो नाक छिदवाने की सलाह दी जाती है। जीवन में बार बार असफलता का सामना करना पड़ रहा है तो भी लाल किताब के विशेषज्ञ यह राय देते हैं। पुरुषों को भी एक बार नाक छिदवाकर उसे 43 दिन तक चांदी का तार डाल कर रखना चाहिए इससे उक्त समस्या में राहत मिलती है। हालांकि आप नाक छिदवाने के पहले अपनी कुंडली जरूर किसी लाल किताब के विशेषज्ञ को दिखा लें।

कंबल दान करें : संकट के लिए प्रथमत: जिम्मेदार राहु और केतु के लिए यह उपाय है। काला और सफेद अर्थात एक ही कंबल में यह दोनों रंग होना चाहिए। कोई तीसरा रंग नहीं होना चाहिए अर्थात दोरंगी कंबल को 21 बार खुद पर से वारकर उसे किसी मंदिर में या गरीब को दान कर दें। इससे कई तरह के फायदे होते हैं।

मंगल के उपाय : किसी लाल किताब के विशेषज्ञ से पूछकर सफेद सुरमा आंखों में लगाएं। बहते पानी में रेवड़िया, बताशे, शहद व सिंदूर बहाए। मंगलवार का व्रत रखे और क्रोध का त्याग करे दें। 

सभी ग्रहों का उपाय : .सूर्य- बहते पानी में गुड, ताम्बा या ताम्बे का सिक्का बहाए। चन्द्र- दूध या पानी भरा बर्तन सिरहाने रख कर सोएं और अगले दिन कीकर की जड़ में सारा जल डाल दें। मंगल- सफ़ेद सुरमा आंखों में लगाए, बहते पानी में रेवड़िया, बताशे, शहद व सिंदूर बहाए। बुध- कन्याओं को हरे वस्त्र और हरी चुड़िया दान करें, दांत साफ रखे।गुरु- माथे पर चंदन या केसर का तिलक लगाएं, पीपल की जड़ में जल चढ़ाएं, चने की दाल दान करें। शुक्र- ज्वार, चरी, घी, कर्पुर, दही का दान करें, सुघंधित पदार्थो का प्रयोग करें। शनि- कीकर की दातुन करें, पेड़ों की जड़ों में तेल डालें। राहू- जौ को दूध से धोकर बहते पानी में बहाएं, मुली का दान करे या कोयला बहते पानी में बहाएं, जेब में चांदी की ठोश गोली रखें। केतु- काले और सफेद तिल बहते पानी में बहाएं।

Categories: Totke / Uncategorised

Categories

November 2019
M T W T F S S
« Feb    
 123
45678910
11121314151617
18192021222324
252627282930  

Leave a reply