25 Nov 2019by Hariom

navratri-puja-vidhi नवरात्री पूजा विधि

घर पर नवरात्रि पूजा विधि
– नवरात्रि पर सुबह जल्दी उठें और नित्यकर्म और स्नान करने के बाद साफ कपड़े पहनें और पूजा घर को साफ करें

– नवरात्रि में मां दुर्गा की आराधना करने से पहले सभी तरह की पूजा सामग्रियों को एक जगह एकत्रित करें

– पूजा की थाली को सजाएं उसमें सभी तरह की पूजा सामग्री को रखें

– माँ दर्गा की फोटो को लाल रंग के कपड़े में रखें

– मिट्टी के पात्र में जौ के बीज को बोएं और नौ दिनों तक उसमें पानी का छिड़काव करें

– नवरात्रि के पहले दिन यानी प्रतिपदा तिथि पर शुभ मुहूर्त में कलश को लाल कपड़े में लपटेकर स्थापित करें।

– फिर कलश में गंगा जल डाले और आम की पत्तियाँ रखकर उस पर जटा नारियल रखें। नारियल में लाल चुनरी को कलावा के माध्यम से बांधें

– इसके बाद कलश को मिट्टी के बर्तन के पास जिसमें जौ बोएं है उसके पास रख दें

– फूल- माला, रौली, कपूर, अक्षत और ज्योति के साथ मां दुर्गा की पूजा करें। यही प्रकिया रोज करें

– नौ दिनों तक माँ दुर्गा का मंत्र का जाप करें और सुख-समृद्धि की कामना करें

– अष्टमी या नवमी को दुर्गा पूजा के बाद नौ कन्याओं को घर पर बुलाकर उनका पूजन करें और उन्हें भोग लगाएं

– नवरात्रि के आखिरी दिन मां दुर्गा की पूजा के बाद घट विसर्जन करें फिर बेदी से कलश को उठाएं    

नवरात्री के व्रत के​ समय क्या ना खायें

फलों के रस:अब, क्योंकि हम उपवास करते हैं, इसका अर्थ यह नहीं है कि हम जितना मन चाहे उतना उसे पियें। यहाँ तक की व्रत वाले दिन ताज़ा फलों का रस भी ज्यादा नहीं पीना चाहिए इसका कारण यह है की फलों के रस में बहुत अधिक मात्र में चीनी होती है और यही नहीं फलों के रस में फायदेमंद फाइबर, और एंटी-ऑक्सीडेंट की कमी भी होती है। न सिर्फ फलों के रस मधुमेह के जोखिम को बढ़ाते हैं, यह बच्चों में मोटापे की समस्या को भी जन्म देते है। यह रस खून में शुगर की मात्रा को भी बढ़ाते है। इसके अलावा, ये रस आपका पेट भर नहीं पाते क्यूंकि इनमे फाइबर की कमी होती है। तो, अच्छा यही है की आप पुरे फल को साबुत खाएं, इसके इलावा आप हरी सब्जी के रस को पी सकते हैं क्योंकि उनमे चीनी की मात्रा कम होती है और आपके रक्त शर्करा के स्तर को भी परेशान नहीं करते।                 

फ्राइड खाने को छोड़े:तले हुए नाश्ता आपको एक दिन के लिए आवश्यक सभी कैलोरी दे सकता है। लेकिन उपवास का उद्देश्य शरीर के अन्दर की सारी गन्दगी को साफ़ करना होता है न की गन्दगी बढाना। जिस हाइड्रोजनीकृत तेल में इन स्नैक्स को बनाया जाता है उससे कई बीमारियाँ जैसे दमा, धमनियों में  रूकावट और मधुमेह हो सकती है । इसलिए, व्रत वाले दिन तली हुई पूरियों के स्थान पर रोटी आलू या सीताफल की सब्जी के साथ खाएं।                    

चीनी शरीर के लिए हानिकारक है: चीनी चाहे सफेद हो या भूरे रंग की उसमे पोषण की मात्रा शुन्य है। चीनी न सिर्फ आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को कमज़ोर करती है बल्कि यह आपके पेट के स्वस्थ्य को भी ख़राब करती है। इन नवरात्रों में चीनी का त्याग करें और आप निश्चित रूप से उत्साहित और स्वस्थ महसूस करेंगे। गुड़ या नारियल के चीनी का इस्तेमाल करके अपनी साबूदाने की खीर को ज़ायकेदार बनाये। पारंपरिक गुड़ में सेलेनियम, जिंक, और लोहा होता है और यह शरीर से गंदे पदार्थों को बाहर निकालता है। साथ ही, आप प्राकृतिक रूप से मीठे फलों को खा सकते है।                

प्रोसेस्ड और पैकेज्ड फ़ूड:नवरात्रि के दौरान सुपर बाजारों में व्रत के नमकीन और तरह-तरह के जंक फ़ूड उपलब्ध होते हैं। हलाकि यह दावा किया जाता है की यह स्वस्थ के लिए अच्छे हैं, लेकिन यीह प्रचार सही नहीं है। पैकेज्ड खाने में सोडियम, चीनी और हानिकारक तेलों का इस्तेमाल होता है। यही नहीं जिन रसायनों से ऐसे खाने के इस्तेमाल की उम्र बढाई जाती है वह सेहत के लिए हानिकारक होते है। आज कल लगभग 3000 से अधिक खाद्य योजको और रंगों का इस्तेमाल किया जा रहा है।                    ​

कंजक पूजा परिचय:      

कंजक पूजा नवरात्रि के अष्टमी या नौवीं (आठवीं या नौवें दिन) पर की जाता है। देवी को आभार देने का यह एक और तरीका है। कुमारी पूजा या कंजक को  देवी महाकाली द्वारा दानव कलासुरा के वध के उपलक्ष में मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि कलासुरा ने स्वर्ग और पृथ्वी दोनों को परेशान करना शुरू कर दिया था और कोई भी उसे पराजित नहीं कर पा रहा था। कलासुरा को रोकने के प्रयास में, अन्य देवताओं ने देवी महाकाली से संपर्क किया था जिन्होंने देवी दुर्गा के रूप में पुनर्जन्म लिया था। देवी ने एक छोटी लड़की का रूप ले लिया और कलासुरा से संपर्क किया। 

कलासुरा ने जब यह देखा की एक छोटी सी लड़की उसको चुनोती दे रही है तो वह लापरवाह हो गया  और उसने यह सोचा की वह बड़ी असानी से उस कन्या को पराजित कर देगा। उस समय पर, देवी महाकाली ने अपनी तलवार को निकाला और उसे मार दिया। एक अन्य कथा से पता चलता है कि एक युवा लड़की (कन्या / कुंवारी) की पूजा की जाती है क्योंकि वह उसका सबसे शुभ स्वरूप है बाद में, वह एक पत्नी और माता (पार्वती, लक्ष्मी) की भूमिका, अपने बच्चों (सरस्वती) की शिक्षक की भूमिका और सभी बाधाओं (दुर्गा) के विनाश की भूमिका ग्रहण कर लेती है।            

दुर्गा सप्त्शालोकी       

दुर्गा सप्त्शालोकी माँ दुर्गा के 7 रूपों का परिचायक है जैसे की माँ महाकाली माँ सरस्वती माँ महालक्ष्मी और माँ जगदम्बा। दुर्गा सप्त्शालोकी माँ दुर्गा की सभी दानवों पर विजय को दर्शाता है।​ यह मान्यता है की माँ दुर्गा ने दुर्गा सप्त्शालोकी का पाठ भगवान शिव को सुनाया था। एक बार भगवान शिव ने माँ दुर्गा से पूछा की उनके भक्त ऐसा क्या करें की वह अपने जीवन में हमेशा सफलता पायें। माँ दुर्गा ने सुखमय शांत और सफल जीवन जीने के लिए दुर्गा सप्त्शालोकी के बारे में बताया। दुर्गा सप्त्शालोकी पाठ को चंडी पाठ की जगह भी पड़ा जा सकता है।​


Categories: Pooja

Categories

November 2019
M T W T F S S
« Feb    
 123
45678910
11121314151617
18192021222324
252627282930  

Leave a reply